कार्यालय आरम्भ वर्षः-                   अप्रेल-1985

 

संस्थानिक ढाचां-                                                                                                                                                                                                      

1. औषधि नियंत्रक                       डॉ. आनन्द कुमार शर्मा, औषधि नियंत्रक एवं निदेशक आयुर्वेद विभाग

2. अनुज्ञापन प्राधिकारी                 डॉ. अमर सिंह कविया

3. सहायक औषधि नियंत्रक            डॉ. अमर सिंह कविया

4. औषधि निरीक्षक                      डॉ. उमेश कुमार शर्मा

                                                 डॉ. विनोद कुमार शर्मा

                                                 डॉ. लक्ष्मीनारायण शर्मा

5. सहायक प्रशासनिक अधिकारी    श्री अशोक कुमार शर्मा

6. वरिष्ठ सहायक                                     श्री भानुप्रताप

7. कनिष्ठ सहायक                         रिक्त पद

            राज्य सरकार के आदेश क्रमांक प.25(15)आयु./2001 पार्ट-II दिनांक 09.07.2019 के द्वारा आयुर्वेद विभागान्तर्गत स्वीकृत सहायक निदेशक, आयुर्वेद विभाग को उनके जिले के क्षेत्राधिकार मे पदेन औषधि निरीक्षक नियुक्त किया जा कर राजपत्र मे अधिसूचित किया गया है।

    वर्तमान मे इस कार्यालय मे निम्न विवरणानुसार पद सृजित हैः-

1. सहायक औषधि नियंत्रक-                      01 पद

2. औषधि निरीक्षक-                                 03 पद (आयुर्वेद) एवं 01 पद (यूनानी)

3. सहायक प्रशासनिक अधिकारी-               01 पद

4. वरिष्ठ सहायक-                                    01 पद

5. कनिष्ठ सहायक-                                   01 पद  

औषधि नियन्त्रक (आयुर्वेद ,सिद्धा एवं युनानी ) के कर्तव्य

·         अनुज्ञापन प्राधिकारी (आयुर्वेद ,सिद्धा एवं युनानी ) एवं औषधि नियन्त्रण अनुभाग (आयुर्वेद ,सिद्धा एवं यूनानी) के नियंत्रण अधिकारी होगें तथा वे औषधि नियन्त्रक के अधिनस्थ होगें।

·         राज्य मे आयुर्वेद ,सिद्धा एवं यूनानी औषधियों के विनियामक/प्रवर्तन हेतु की जाने वाली महत्वपूर्ण/ विशेष कार्यवाही करने के लिए निर्देश प्रदान करेगें।

·         अनुज्ञापन प्राधिकारी द्वारा किये गये कार्यो का परीक्षण एवं समीक्षा करना तथा राज्य में औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 के प्रभावी क्रियान्वयन हेतु आवश्यक निर्देश प्रदान करना।

·         औषधि नियंत्रण कार्यालय के कार्य का समयबद्ध निस्तारण सुनिश्चित करवाना।

·         औषधि निर्माताओ के अभाव अभियोग सुनना एवं उनकी समस्याओं का नियमानुसार निस्तारण करवाना।

·         राज्य मे मानक स्तर की आयुर्वेद ,सिद्धा एवं युनानी औषधियों के निर्माण एवं विपणन को सुनिश्चित करवाना।

·         राजकीय औषधि परीक्षण प्रयोगशाला अजमेर के कार्यो का परीक्षण एवं समीक्षा करना औषधि तथा राज्य में औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 के प्रभावी क्रियान्वयन हेतु आवश्यक निर्देश प्रदान  करना।

·         राज्य में ड्र्ग एवं मेजिक रेमेडीज एक्ट 1954 का प्रभावी क्रियान्वयन करवाना तथा भ्रामक विज्ञापनो पर प्रतिबंध लगवाना।

अनुज्ञापन प्राधिकारी (आयुर्वेद ,सिद्धा एवं युनानी ) के कर्तव्य

·         आयुर्वेद ,सिद्धा एवं युनानी औषधियों के निर्माण के लिए नवीन अनुज्ञा पत्र चाहने के आवेदन पत्रो की पत्रावली का परीक्षण कर नियमानुसार अनुज्ञा पत्र जारी करना अथवा आवेदन निरस्त करना। पूर्व मे जारी अनुज्ञापत्रो का नियमानुसार नवीनीकरण /निरस्त /निलम्बन करना।

·         नवीन अनुज्ञाधारी अथवा पुरातन अनुज्ञाधारी निर्माणशालाओं को जी.एम.पी प्रमाण पत्र जारी/निरस्त करना।

·         ड्र्ग अप्रुवल कमेटी की अध्यक्षता करना एवं नियमानुसार औषधियों के अप्रुवल जारी /निरस्त करना।

·         औषधि निर्माताओं को शास्त्रीय औषधियों की निर्माण स्वीकृति नियमानुसार जारी करना ।

·         औषधि परीक्षण प्रयोगशालाओ को नियमानुसार अनुज्ञा पत्र जारी करना अथवा उनका अनुज्ञा पत्र नवीनीकरण /निरस्त/निलम्बित करना।

·         औषधि निर्माताओं को फ्री सेल सर्टिफिकेट एवं नॉन कनविक्सन सर्टिफिकेट नियमानुसार जारी करना।

·         राज्य में ड्र्ग एवं मेजिक रेमेडीज एक्ट 1954 का प्रभावी क्रियान्वयन करना तथा भ्रामक विज्ञापनो पर प्रतिबंध लगाना।

·         औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 के नियम 170 के तहत नियमानुसार विज्ञापन करने हेतु औषधि निर्माताओं को UIN ( Unique Identification Number) जारी करना।

·         राज्य सरकार एवं औषधि नियन्त्रक द्वारा समय समय पर आदेशित कार्यो को अविलम्ब पूर्ण करना।

·         सहायक औषधि नियन्त्रक द्वारा प्रस्तुत पत्रावलियों का परीक्षण कर निस्तारण करना।

·         औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 के अर्न्तगत बने नियमों को प्रभावी ढग से राज्य मे लागू करवाना।

·         औषधि निरीक्षको के कार्यो का परीक्षण एवं समीक्षा कर उन्हे यथावश्यक निर्देश देना।

·         औषधि नियन्त्रण कार्यालयों मे प्राप्त शिकायतो का परीक्षण कर जांच करवा शीध्रता से निस्तारण करना।

·         अफीम, भांग आदि मादक द्रव्यों से बनने वाली औषधियों के लिए भांग अफीम आदि की अनुशंसा आबकारी विभाग को करने से पूर्व लोक स्वास्थय पर उसके प्रभाव का आंकलन करकें ही अनुशंषा की जावें

·         औषधि निरीक्षको के लिए पर्याप्त आवश्यक बजट की व्यवस्था करवाना जिससे अधिनियम के प्रवर्तन का कार्य सुचारू रूप से हां सकें।

·         औषधि निर्माताओं द्वारा औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 के नियमों का उलंघन किये जाने पर उन्हे शॉ कॉज नोटिस जारी करना एवं उनके विरूद्ध न्यायिक प्रक्रिया के तहत अभियोजन स्वीकृती जारी करना।

·         औषधि निरीक्षकों के निरीक्षण, नमुना संग्रहण एवं सर्वे(खुदरा विक्रयस्थल) के लक्ष्य निर्धारित करना एवं उनकी प्रगति की समीक्षा करना ।

सहायक औषधि नियंत्रक (आयुर्वेद ,सिद्धा एवं युनानी ) के कर्तव्य

·           औषधि निर्माण हेतु नवीन अनुज्ञापत्र चाहने के आवेदन की पत्रावली का परीक्षण कर अपनी अभिशषा के साथ पत्रावली अनुज्ञापन प्राधिकारी के समक्ष प्रस्तुत करना एव निर्देशानुसार एकल अथवा संयुक्त निरीक्षण करवाकर अनुज्ञापन प्राधिकारी को अपनी अभिशषां/सहमति के साथ प्रस्तुत करना तथा अनुज्ञापत्र जारी करवाना अथवा आवेदन निरस्त करवाना ।

·           औषधि निरीक्षकों को नियमित निरीक्षणों की पत्रावलियों का परीक्षण कर अपनी अभिशंषा के साथ अनुज्ञापन प्राधिकारी को प्रस्तुत करना।

·           औषधि निर्माताओं द्वारा नियमों का उलंघन करने पर उन्हे शॉकॉज नेटिस जारी करवाना एवं न्यायिक प्रक्रिया के तहत अभियोजन स्वीकृति जारी करवाना।

·           औषधि निर्माताओं के अनुज्ञापत्रों के नवीनीकरण आवेदन अथवा G M P अवधि वृ़द्ध आवेदनों का परीक्षण कर अपनी संस्तुति के साथ अनुज्ञापन प्राधिकारी को पत्रावली प्रस्तुत करना एवं औषधि निरीक्षक की नवीनतम निरीक्षण रिपोर्ट का हवाला देकर पत्रावली का निस्तारण करवाना।

·           औषधि नियन्त्रण कार्यालय की पत्रावलियों का निस्तारण औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 के अनुसार नियत समय पर करवाना।

·           औषधि नियन्त्रण कार्यालय में आने वाले समस्त पत्रों को अग्रेषित कर अनुज्ञापन प्राधिकारी को प्रस्तुत करना।

·           कार्यालयाध्यक्ष होने के कारण कार्यालय की समस्त कार्य प्रणाली की जिम्मेदारी वहन करना।

·           औषधि निरीक्षकों से प्राप्त नमूनो की जांच रिपोर्ट का प्ररीक्षण कर अनुज्ञापन प्राधिकारी को प्रस्तुत करना एवं निर्देशानुसार औषधि निरीक्षकों निर्देशित करना।

·           सूचना के अधिकार के तहत प्राप्त आवेदनों का निर्धारित समयावधि में निस्तारण करना।

·           प्रोपराइटरी औषधियों की निर्माण स्वीकृति हेतु प्रोपराइटरी औषधियों की अप्रूवल कमेटी की बैठक का आयोजन कराना और बैठक का ब्यौरा तैयार कर स्वीकृत फार्मूलो को यथा समय औषधि निर्माताओं को प्रेषित करना।

·           अवमानक औषधि निर्माण के निर्माताओं के विरूद्ध न्यायिक कार्यवाही के लिये औषधि निरीक्षको के अभियोजन स्वीकृति आवेदनो का शीघ्र निस्तारण करवाना।

·           राज्य सरकार, औषधि नियन्त्रक एवं अनुज्ञापन प्राधिकारी तथा अन्य उच्चाधिकारियों से प्राप्त आदेशों/दिशा निर्देशों की पालना करना।

 

औषधि निरीक्षक (आयुर्वेद ,सिद्धा एवं युनानी ) के कर्तव्य

·           औषधि निरीक्षक को अपने अधिकार क्षेत्र की औषधि निर्माणशालाओं का कम से कम वर्ष में दो बार निरीक्षण किया जाना आवश्यक है। इसके अतिरिक्त अनुज्ञापन प्राधिकारी द्वारा दिये गये लक्ष्यों की पूर्ति करना (खुदरा विक्रय स्थलों का निरीक्षण विधिक नमूनो संग्रहण)। निरीक्षण में औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 के प्रावधानों की पालना सुनिश्चित करना है।

·           औषधि निरीक्षक द्वारा किये गये निरीक्षणों की रिपोर्ट शीघ्रातिशीघ्र अनुज्ञापन प्राधिकारी को सहायक औषधि नियन्त्रक के माध्यम से प्रस्तुत करना।

·           औषधि निर्माता/विक्रेता के पास कोई अनियमितता पाये जाने पर अनुज्ञापन प्राधिकारी को सहायक औषधि नियन्त्रक के माध्यम से शीघ्र सूचित करना एंव औषधि एंव औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 प्रावधान के तहत कार्यवाही करना। यदि आवश्यक हो तो उच्चाधिकारियो से दिशा निर्देश प्राप्त किये जा सके है।

·           औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 के प्रावधानों क उल्लंघन पर नियमानुसार प्रशासनिक एवं न्यायिक कार्यवाही करना।

·           अनुज्ञापन प्राधिकारी, सहायक औषधि नियन्त्रक एंव अन्य उच्चाधिकारियों से समय-समय पर प्राप्तआदेशों/निर्देशों की पालना करना।

·           ड्रग एण्ड मेजिक रेमेडीज एक्ट 1954 के तहत भ्रामक विज्ञापनो को रोकना।

·           नवीन अनुज्ञापत्र के आवेदन की मूल पत्रावली के अनुसार निरीक्षण कर औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 की शिड्यूल ’’टी’’ की पालना सुनिश्चित करना।

·           अपने अधिकार क्षेत्र में औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम 1940 नियम 1945 की पालना सुनिश्चित करना।