बजट घोषणा
S.No Title View
1 बजट घोषणा वर्ष 2022-23

बिन्दु संख्या 21

आयुष सुविधा (आयुर्वेद, योग व नैचुरोपैथी, यूनानी एवं होम्योपैथी) से वंचित 19 ब्लॉक पर आयुष चिकित्सालय की स्थापना का कार्य हाथ में लिया जायेगा। इन पर लगभग 20 करोड रूपये का व्यय किया जायेगा।

 

बिन्दु संख्या 22

तारानगर-चूरू में आयुर्वेद महाविद्यालय एवं भरतपुर में आयुर्वेद नर्सिंग कॉलेज खोला जायेगा। साथ ही यूनानी महाविद्यालय, टोंक के भवन का लगभग 10 करोड रूपये की लागत से विस्तार किया जायेगा।

सामान्य वाद-विवाद पर माननीय मुख्यमंत्री महोदय की घोषणाएं

 

बिन्दु संख्या 3 (VII)

बच्छरारा (रतनगढ)-चूरू व बावडीखुर्द (फलौदी)-जोधपुर में आयुर्वेद औषधालय खोलें जायेगें।

वित्त एवं विनियोग विधेयक चर्चा पर माननीय मुख्यमंत्री महोदय द्वारा की गयी घोषणा

 

बिन्दु संख्या 5-IX

ताउसर-नागौर में आयुर्वेद औषधालय खोला जायेगा।

 

बिन्दु संख्या 8

प्राकृतिक, योग एवं आयुर्वेद की गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा उपलब्ध करवानें की दृष्टि से अनुभवी सामाजिक संस्था के माध्यम से जिला स्तरीय सोसायटी के तत्वाधान में पायलेट बेसिस पर नाथद्वारा-राजसमंद में मेडिट्यूरिज्म वैलनेस सेन्टर संचालित किया जाना प्रस्तावित है।

2 बजट घोषणा वर्ष 2021-22

बिन्दु संख्या 16

एक हजार आयुर्वेद औषधालयों को health and wellness centre के रूप में विकसित किया जायेगा। अजमेर में राजस्थान राज्य आयुष अनुसंधान केन्द्र की स्थापना की जायेगी।

बिन्दु संख्या 25

राज्य के 58 ब्लॉक मुख्यालयों पर आयुर्वेद, यूनानी एवं होम्यापैथी औषधालय चरणबद्ध रूप से प्रारंभ किये जायेगे।

बिन्दु संख्या 26

परम्परागत चिकित्सा पद्धतियों को बढावा देने के लिए हमने राज्य में पहली बार राजस्थान आयुष नीति-2021 लागू की है। अब उसकों मैं आगे बढ़ाते हुए जयपुर,बीकानेर, भरतपुर,अजमेर,कोटा व सीकर में आयुर्वेदए योग एवं नेचुरोपैथी के एकीकृत महाविद्यालय स्थापित करने की घोषणा करता हॅू। साथ हीए उदयपुर व जोधपुर में Yog and Naturopathy के कॉलेज खोले जायेंगे। इन सभी कॉलेजों में पंचकर्म की सुविधायें भी विकसित की जायेगी।

बिन्दु संख्या 27

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन राजस्थान आयुर्वेद विश्वविद्यालय, जोधपुर में आयुर्वेद वेलनेस पर्यटन को बढाने के लिए प्राकृतिक वातावरण में ठहरने की सुविधा के साथ ‘International Centre of Excellence in Panchkarm’ बनाया जायेगा व विश्वविद्यालय रसायनशाला का विस्तार एवं Drug Testing Lab की स्थापना की जायेगी। इन पर कुल 10 करोड़ रूपये व्यय होंगे।

बिन्दु संख्या 28

राज्य के पर्यटन एवं धार्मिक स्थानों पर आयुर्वेद, योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा के Medi-Tourism Centres की PPP mode पर चरणबद्ध रूप से स्थापना की जायेगी।

बिन्दु संख्या 60

राज्य के युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करनें के लिए आगामी 2 वर्षो में आयुर्वेद विभागान्तर्गत 890 पदों पर भर्ती की जायेगी।

 

सामान्य वाद-विवाद पर माननीय मुख्यमंत्री महोदय की घोषणाएं

बिन्दु संख्या 05

आयुर्वेद चिकित्सालय नोखा-बीकानेर को ‘ए‘ श्रेणी चिकित्सालय में क्रमोन्नत किया जायेगा।

3 बजट घोषणा वर्ष 2020-21

बिन्दु संख्या 30

सीकर जिला मुख्यालय पर 50 शैय्याओं के एकीकृत आयुष चिकित्सालय की स्थापना की जायेगी। इस पर 4 करोड़ 50 लाख रूपये का व्यय होगा।

4 बजट घोषणा वर्ष 2017-18

बिन्‍दु संख्‍या 238

वर्ष 2017-18 में जयपुर, भरतपुर, कोटा, बीकानेर, अजमेर, उदयपुर, जोधपुर, चित्‍तौडगढ, झालावाड एवं राजसमन्‍द में क्षार सूत्र शल्‍य चिकित्‍सा इकाई प्रारंभ की जायेगी।

बिन्‍दु संख्‍या 239

2 नये पंचकर्म केन्‍द्र, जिला मुख्‍यालय धौलपुर तथा प्रताप नगर, जयपुर में संचालित आयुर्वेद चिकित्‍सालय में खोले जायेंगे। साथ ही 2 नये आंचल प्रसूता केन्‍द्र जिला मुख्‍यालय जैसलमेर व बाडमेर में संचालित आयुर्वेद चिकित्‍सालयों में खोले जायेंगे।

बिन्‍दु संख्‍या 242

वर्तमान में 31 जिला मुख्‍यालयों पर आयुर्वेद चिकित्‍सालय संचालित हैं जिनमें से 18 जिला आयुर्वेद चिकित्‍सालय घोषित हैं। शेष 13 जिलों में संचालित आयुर्वेद चिकित्‍सालयों को भी जिला आयुर्वेद चिकित्‍सालय का दर्जा दिया जायेगा। साथ ही जिला मुख्‍यालय हनुमानगढ तथा टोंक में नवीन जिला आयुर्वेद चिकित्‍सालय खोले जायेंगे।

5 बजट घोषणा वर्ष 2016-17

बिन्‍दु संख्‍या 184

1-    वर्ष 2016-17 में शेष रहे तीन जिलों में आंचल प्रसूता केन्‍द्र, 11 जिलों में जरावस्‍था केन्‍द्र 9 जिलों में पंचकर्म केन्‍द्र को प्रारम्‍भ कराना।

2-    6 नये योग प्राकृतिक चिकित्‍सा केन्‍द्रों के निर्माण कराना। (भीलवाडा, भरतपुर बून्‍दी, बांसवाडा, प्रतापगढ, टोंक)

 

बिन्‍दु संख्‍या 185

 राज्‍य में आयुर्वेद पद्धति को बढावा देने के लिए हमारी सरकार में राज्‍य कर्मियों के लिए चयनित आयुर्वेद की पंचकर्म के तहत कराये गये उपचार की राशि का पुर्नभरण अनुमत किया गया है।  

6 बजट घोषणा वर्ष 2015-16 10 नवीन योग एवं प्राकृतिक अनुसंधान केन्‍द्रों हेतु भवन निर्माण कराया जाना। 

7

बजट घोषणा वर्ष 2014-15

नाहरगढ वन औषधि उधान बारां की स्‍थापना की जायेगी, जिसके लिए 1 करोड 42 लाख रूपये का प्रावधान प्रस्‍तावित है। इस उधान को सार्वजनिक निजी सहभागिता से संचालित किया जायेगा।